क्लाउड होस्टिंग क्या होती है – What is Cloud Web hosting & how does it work

46 / 100

What is Web Hosting in Hindi ( वेब होस्टिंग क्या होती है )
आज में आपको Cloud Hosting के बारे में बताने जा रहा हू. लेकिन अगर आप अपनी site बनाने की सोच रहे है तो उससे पहले आपको ये जानना जरुरी है
की Web Hosting क्या होती है।

वेब होस्टिंग एक सुबिधा है जो की sites को Internet मे जगह देने की सेवा प्रदान करता है.
इसकी वजह से किसी एक व्यक्ति या association के site को पूरी दुनिया मे Internet के ज़रिए कही पर से भी  get to किया जा सकता है। 

इसको आप ऐसे भी समझ सकते है की अपने अपनी Website की Files,Images,Videos Etc को स्टोर करने के लिए ऑनलाइन Storage खरीद रहे है

जैसे की आप अपने कंप्यूटर में Data स्टोर करते है बिलकुल उसी तरह बस ये ऑनलाइन हो जाती है

मतलब आप अपने information या site को दुनिया में कही से भी get to कर सकते है। 

ये PCs हर वक़्त 24×7 Internet से associated रहते है.

Web facilitating की सेवा हमे बहुत सारे organizations प्रदान करते हैं
जैसे Godaddy, HostgatorHostinger, Siteground and so forth और इनको हम web Server भी कहते हैं। 

एक हिसाब से हम ये भी कह सकते हैं की अपने वेबसाइट डाटा को किसी दूसरे के PC (web servers) मे store करने के लिए हम उन्हे किराया देते हैं

बिलकुल उसी तरह जैसे किसी होटल मे रहने के लिए किराया देते हैं ठीक उसी तरह Web Hosting होती है। 

Types of Web Hosting in Hindi (वेब होस्टिंग के प्रकार)

अब आप web facilitating के बारे में ये तो जान ही गए होंगे की Web Hosting क्या होती है
और कैसे काम करती है, तो चलिए अब ये जान लेते है की Web-Hosting कितने प्रकार की होती है-

  1. Shared Web Hosting
  2. VPS(Virtual Private Network)
  3. Dedicated Web Hosting
  4. Cloud Web Hosting

इन चारो प्रकार की होस्टिंग के अपने अलग-अलग उपयोग होते है
क्यों की इन सभी होस्टिंग की अपनी अलग तरह के Features होते है.
इनमे से क्लाउड वेब होस्टिंग सबसे Best और अच्छी होती है। 

क्लाउड वेब होस्टिंग क्या है और काम कैसे करती है || What is Cloud Hosting

What is Cloud Hosting
What is Cloud Hosting

Cloud Web Hosting होस्टिंग का एक ऐसा प्रकार है
जिसमें आपकी वेबसाइट का डाटा अलग-अलग server पर स्टोर होता है।
यह तरीका वेब होस्टिंग की पुरानी पद्धति से बिल्कुल अलग है।

जहां पर आपका डाटा एक ही सर्वरस पर स्टोर होता था।
लेकिन अब क्लाउड वेब होस्टिंग में आपका डाटा अलग-अलग जगह के servers के assets को इस्तेमाल कर वर्चुअल सर्वरस तैयार किए जाते हैं,
और उन्हें जोड कर एक grouped servers तैयार किया जाता है।

आपका डेटा कई सारे वर्चुअल सर्वर(clustered servers) पर स्टोर होता है,
और यह सारे वर्चुअल सर्वर किसी ने किसी एक फिजिकल सर्वर से प्राप्त किए गए होते हैं।

जब भी इनमें से किसी भी server में issue आती है और वो सर्वर ऑफलाइन हो जाता है
या खराब हो जाता है, तब भी आपकी site कार्य करती रहेगी
क्योंकि और दूसरे servers नेट से interface रहते हैं और आपकी वेबसाइट काम करती रहती हैं।

Cloud Hosting के फायदे

Loading Time: क्लाउड होस्टिंग में site का लोडिंग टाइम बहुत ही कम होता है। 

Traffic: इस तरह की होस्टिंग boundless ट्रैफिक को load करने की क्षमता रखती है
और इन्हे ऐसी तरह डिज़ाइन दिया जाता है।

Bandwidth: क्लाउड होस्टिंग में बैंडविथ की दिक्कत नहीं होती है।
क्योंकि सारे सर्वर मिलकर बैंडविथ को शेयर करते हैं।
जैसे ही किसी सर्वर की बैंडविथ खत्म हो जाती है, तो दूसरे सर्वर से आपकी वेबसाइट को Bandwidth देने लगता हैं।

Security: clustered servers पर आपके डेटा होने की वजह से आपकी वेबसाइट को एक अलग प्रकार से अच्छी सिक्योरिटी मिलती है।
जिससे आपकी वेबसाइट को कम खतरा रहता है, वेबसाइट डाउन भी होती है। 

Cloud Hosting के नुखसान(Cons)

क्लाउड होस्टिंग में Root Access नहीं मिलता है। 

Cloud Hosting थोड़ी सी महंगी होती है लेकिन Features की बात करे
तो यह Dedicated Hosting के मुकाबले में सस्ती होती है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,019FansLike
2,949FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles